Friday, September 7, 2012

तुम


जागो मोहन जागो
जागो रे मन जागो
जागो जीवन जागो

जागना है तुम्हें
जगाना है तुम्हें
जगजगाना है तुम्हें

तुम देह नहीं
माटी नहीं तुम  
न कोई दु:ख हो

तुम्हारी स्वांस छू रहा कोई
तुममें कोई स्वर कोई अनहद बज रहा
तुम अद्भूत मात्र एक हो

तुम यात्रा हो
तुम पथिक हो
तुम खोजी हो

तुम चेतना  
तुम दीपक
तुम्ही प्रेम

जाने के बाद भी तुम हो
अब भी तुम
तुम थे हो रहोगे

अपने अंतस का वातायन तो खोलो
कितना मनोरम दृश्य है वहाँ
शांति की अजस्र धार वहाँ
पूरा थिर है पर लय है
आवाज नहीं पर ताल है

सचमुच तुम बूँद हो
पर समुद्र की गहराई है तुममें
मै जितना तुम हूँ
उतना ही तुम मैं हो |


5 comments:

Vinay Prajapati said...

बेहतरीन रचना :)

---
हिंदी टायपिंग टूल हमेशा रखें कमेंट बॉक्स के पास

Satish Chandra Satyarthi said...

बहुत बढ़िया...

Sunil Kumar said...

बहुत अच्छी भावाव्यक्ति , बधाई

expression said...

बहुत सुन्दर रचना...
बधाई सुशील जी.

सादर
अनु

सुशील कुमार said...

धन्यवाद|

Post a Comment

धन्यवाद|

इस साईट से जुड़ें Google Friend Connect के जरिये -

 

test Copyright © 2011 -- Template created by O Pregador -- Powered by Blogger